सर्वनाम - संस्कृत व्याकरण

💐 सर्वनाम - संस्कृत व्याकरण 💐

● सर्वनाम :-
' सुबन्त ' अर्थात् नामपद (राम , रमा आदि ) के स्थान पर उपयुक्त होने वाले शब्द को सर्वनाम कहते है । अन्यपुरुष को छोड़कर सर्वनाम तीनों लिंगों (पुर्लिंग, स्त्रीलिंग , नपुंसकलिंग ) में समान रूप से प्रयोग होता हैं।

  सर्वनाम :-        एकवचन।       द्विवचन।       बहुवचन।  

  उत्तमपुरुष।           अहम्  ।          आवां  ।          वयम्  ।

  मध्यमपुरुष।          त्वम्    ।          युवाम्  ।        यूयम्  । 

अन्यपुरुष।(पुर्लिंग)     सः   ।             तौ   ।          ते    ।
      ( स्त्रीलिंग )         सा   ।              ते    ।          ताः   ।
      (नपुंसकलिंग)      तत्  ।              ते    ।          तानि ।

  ★सर्वनाम उत्तमपुरुष 
' अस्मद् ' शब्द ।

★सर्वनाम मध्यमपुरुष 
' युष्मद् ' शब्द

सर्वनाम अन्यपुरुष 
पुर्लिंग ' तद् ' शब्द

पुर्लिंग ' एतद् ' शब्द 

पुर्लिंग ' किम् ' शब्द

सर्वनाम अन्यपुरुष
स्त्रीलिंग ' तद् ' शब्द


स्त्रीलिंग ' एतद् ' शब्द 


स्त्रीलिंग ' किम् ' शब्द


सर्वनाम अन्यपुरुष
नपुंसकलिंग ' तद् ' शब्द

नपुंसकलिंग ' एतद् ' शब्द 


नपुंसकलिंग ' किम् ' शब्द



1 टिप्पणी:

  1. हमे यह पोस्ट सर्वनाम काम आई । ईसे रखने के लिए धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं

आपके महत्वपूर्ण सुझाव के लिए धन्यवाद।

Blogger द्वारा संचालित.